Sunday, April 21, 2024

भोजपुरी साहित्य

नईखे जिनगी के रहियाँ आसान भाई जी

दुखऽ , मुसीबत ना घर से ओराला
तनी-तनी बतिया पे अँखियाँ लोराला
चिंता धईले बा साझों बिहान भाई जी
नईखे जिनगी के रहियाँ आसान भाई जी

ज़िनगी के जियल आसान नईखे – नूरैन अंसारी

ज़िनगी के जियल आसान नईखे. आज के बाटे जे परेशान...

जबसे गाँव के माटी छूटल – नूरैन अन्सारी

नूरैन अंसारी भोजपुरी के उभरते हुए स्टार साहित्यकार हैं. अपने लेखन में अंसारी आज की भाषा में आज का साहित्य प्रस्तुत करते हैं.

केतनो रोई बाकिर अखिया लोरात नइखे – नूरैन अन्सारी

जीवन में दुःख के बावजूद आंसू नहीं बहते, महंगाई से आदमी बेहाल है पर जिंदगी का बोझ उतरता नहीं| बाढ़ और सूखे से किसान प्रभावित होते हैं, अब खुशी से खेती नहीं होती| लोग जरूरत पर साथ नहीं देते, और आंतरिक पीड़ा छिप के सही जाती है।

घर से लेके बहरा तक हम धावत रह गइनी – नूरैन अन्सारी

साख आपन ज़िनगी भर बचावत रह गइनी, कुछ बेमतलब के...

बाकिर हर केहु रउआ खानि उदास नइखे – नूरैन अंसारी

अरे दुःख ये दुनिया में केकरा पास नइखे. बाकिर हर...

निमने बतिया लोग के ख़राब लागत बा -नूरैन अन्सारी

निमने बतिया लोग के ख़राब लागत बा. धतूर जइसन कडुआ...

बर पीपर के छाँव के जइसन बाबूजी

बर पीपर के छाँव के जइसन बाबूजीहमरा भीतर गाँव...

जब-जब जे महसूस करेलें उहे लिखेलें भावुक जी

दर्द उबल के जब छलकेला गज़ल कहेलें भावुक जीजब-जब...

जब से शहर में आइल तब से बा अउँजियाइल – मनोज भावुक

जब से शहर में आइल तब से बा अउँजियाइलरोटी...

दिल चुरावे ना आवेला उनका-मनोज भावुक

दिल चुरावे ना आवेला उनका, गुल खिलावे ना आवेला उनका- Dil chorawe na aawelaunka gul khilave na aavela unka